प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध [2022] | Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

हमारा यह आर्टिकल स्वच्छ भारत अभियान Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi पर लिखा हुआ एक निबंध है। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए यह एक नई टॉपिक है। जिस पर अक्सर निबंध पूछे जाते हैं अतः विद्यार्थियों से अनुरोध है कि किसी प्रकार के निबंध की तैयारी के लिए कुछ महत्वपूर्ण विषय पर निबंध अवश्य तैयार करें। जिनमें से स्वच्छ भारत मिशन भी एक महत्वपूर्ण विषय है। 

अन्य लेख :- Essay on Republic Day

नियमित पाठ्यक्रम की दृष्टि से भी स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi) परीक्षार्थियों से पूछा जाता है अतः स्वच्छ भारत मिशन पर निबंध कैसे लिखें यह जानने के लिए हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। महात्मा गांधी के अनुसार स्वच्छता ज्यादा जरूरी हैं। महात्मा गांधी का सपना था तो उनका एक स्वच्छ और स्वतंत्र भारत हो । उनके सपने को पूरा करने के लिए हमारे भारत के प्रधानमंत्री ने देशवासियों से अपील की और लोगों के बीच स्वच्छता बनाए रखने की भावना व्यक्त की। भारत वासियों ने भी महात्मा गांधी के सपनों को पूरा करने के लिए हमारे प्रधानमंत्री जी के कार्यों में उन का संपूर्ण सहयोग दिया। इस स्वच्छ भारत की परिकल्पना महात्मा गांधी ने आजादी के पूर्व ही कर ली थी। कैसे लिखे स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध जानते हैं हमारे इस पोस्ट में।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध (Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi)

प्रस्तावना – स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया एक प्रयास है जिसके द्वारा हमारा देश स्वच्छ, सुंदर होगा  और हम अपने सपनो का भारत हकीकत में आगे आने वाले वर्षों में देख सकेंगे| इस स्वच्छ भारत अभियान में देश के बड़े बड़े लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया था|

जितना ध्यान हम हमारे शरीर की स्वच्छता पर केंद्रित करते हैं उतना ही ध्यान हम सबको अपने घर, परिसर, गाँव तथा शहरों की स्वच्छता पर केंद्रित करना चाहिये। कई लोगों की मानसिकता बड़ी अजीब होती है कि बस हमारा घर साफ़ होना चाहिये बाकि जगहों की सफाई से हमें क्या लेना देना पर वास्तव में यह सोच बहुत ही दकियानूसी है| हमारा देश भी तो हमारा अपना घर है इस देश का नागरिक होने के नाते हमारे भी कुछ कर्तव्य हैं कि हम देश की किसी ना किसी रूप में सेवा कर सकें। अपने देश को गंदगी से निजाद दिलाना भी एक प्रकार की देश सेवा ही है|

भारत देश के नागरिकों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिये भारत सरकार ने एक अभियान शुरू किया गया जिसको स्वच्छत भारत अभियान का नाम दिया गया, जिसका उद्देश्य हर गाँव,हर शहर के नुक्कड़, गली, मोहल्ले  की स्वच्छता की ओर विशेष ध्यान देना है|

अगर देश के हर नागरिक के मन में स्वच्छता के प्रति जागरूकता होती तो सरकार को ऐसे कोई अभियान की शुरुवात कर पहल करने की जरूरत ही नहीं होती|

अन्य लेख :- Vasant Ritu Par Nibandh

स्वच्छ भारत अभियान कल्पना का आरंभ

हमारे राष्ट्र पिता महात्मा गांधी जी का एक सपना था कि हमारा देश साफ़ सुथरा हो इसलिये वो अपने संपर्क में आने वाले लोगों को स्वच्छता का पाठ पढ़ाया करते थे उनके इस अधूरे सपने को पूरा करने का बीडा हमारे प्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने उठाया इसलिये गांधी जयंती के दिन 2 अक्टूबर 2014 को माननीय प्रधानमंत्री जी ने स्वच्छ भारत अभियान की नींव रखी जिसमे स्वच्छता पर जोर देने के लिये सामुदायिक शौचालयों के निर्माण पर ध्यान केंद्रित किया|

भारत सरकार ने 2 अक्टूबर 2019, महात्मा गांधी के जन्म की 150 वी  वर्षगाँठ तक ग्रामीण भारत में 1.96 लाख करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से 1.2 करोड़ शौचालयों का निर्माण करके खुले में शौंच मुक्त भारत को हासिल करने का लक्ष्य रखा था| 

देश में फैल रही गंदगी के कारण

प्राचीन काल में लोगों को खुले में शौच करने जाना पड़ता था क्यूंकि उस समय शौचालय के निर्माण नहीं होते थे जिसके कारण फैली गंदगी से लोग कई बीमारियों का शिकार हो जाते थे| इसलिये जबसे शौचालय बनना शुरू हुए तब से गंदगी पर काफी हद तक नियंत्रण किया जा सका| पर अभी भी लोग सफ़ाई को लेकर उतने जागरूक नहीं है, सार्वजनिक स्थलों, धार्मिक स्थलों को लोग अब भी गंदा करते हैं, कहीं भी कचरा फेकते हैं, कहीं भी थूक देते हैं, ये एक बेहद ही शर्मनाक कार्य है| 

नदियों नालों तथा समुद्र तटों को भी लोगों ने गंदा कर दिया है| कचरे का सही व्यवस्थापन नहीं है| सूखा गीला कचरा मिश्रित कर प्लास्टिक की थैलियों में भर भर कर फेंक दिया जाता है जिसके परिणामस्वरूप पर्यावरण को तो क्षति पहुंचती ही है साथ ही साथ कई पशु पक्षी भी मारे जाते हैं|इसलिये कचरे का वर्गीकरण आवश्यक है| 

हमारे देश में गंदगी फैलने का एक और भी बड़ा कारण है और वह है शिक्षा का आभाव, एक अशिक्षित व्यक्ति को स्वच्छता का महत्व तथा गंदगी के कारण होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी ही नहीं होती| हमारे देश की जनसंख्या बहुत ज्यादा है, एक एक कमरों में आठ से दस व्यक्ति रहते हैं| एक ही शौचालय का प्रयोग सार्वजनिक रूप से करते हैं| जिसके कारण संक्रमण फैलता है| बड़े बड़े महानगरों में चालों में लोग रहते हैं| सफ़ाई के प्रति लोगों में जागरूकता की बहुत कमी है|

स्वच्छ भारत अभियान के मुख्य उद्देश्य

1. स्वच्छत भारत अभियान Swachh Bharat Abhiyan के तहत खुले शौचालयों को पूरी तरह बंद कर देना है क्योंकि खुले में शौच करना यानी बीमारीयों को आमंत्रण देना है|

2. हाथों से मल की सफाई व्यवस्था को बंद करना

3. लोगों को स्वास्थ के विषय में जागरूक करना

4. लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता लाने के लिये सार्वजनिक स्वास्थय और साफ-सफाई के कार्यक्रम से लोगों को जोड़ना

5. साफ-सफाई से संबंधित सभी व्यवस्था को नियंत्रित, डिज़ाइन और संचालन करने के व्यवस्था  करना है।

6. वैज्ञानिक प्रक्रियाओं से  ठोस अपशिष्ट का पुनर्चक्रण करना है।

अन्य लेख :- Mera Priya Khel

स्वच्छ भारत अभियान नारा

हमारे देश में स्वच्छता के प्रति प्रेम जागरूक करने के लिये कई नारे भी लिखे गये हैं जैसे :-

स्वच्छता ही सेवा है, गन्दगी जानलेवा है

शौचालय का प्रयोग करें, भारत को खुशियों से भरें

चलो सफाई की एक आदत डालें, गन्दगी को कूड़ेदान में ही डालें।

जब हमारा भारत स्वच्छ होगा, तभी तो हर सपना सच होगा।

स्वच्छ भारत अभियान में शामिल कुछ महत्वपूर्ण लोग

स्वच्छ भारत अभियान की कल्पना को साकार करने तथा उसका प्रचार-प्रसार करने के लिये लिए कुछ प्रभावी व्यक्तियों को शामिल किया, जिनका काम अपने-अपने क्षेत्र, अपने तरीके सेलोगों को स्वच्छता के प्रति जागरुक करना है।

उनमें से प्रमुख लोग

1. सचिन तेंडुलकर (क्रिकेटर)

2. महेन्द्र सिंह धोनी (क्रिकेटर)

3. विराट कोहली (क्रिकेटर)

4. बाबा रामदेव (योग गुरु)

5. सलमान खान (अभिनेता)

6. शशि थरूर (संसद के सदस्य)

7. प्रियंका चौपड़ा (अभिनेत्री)

8. अनिल अंबानी (उद्योगपति)

9. कमल हासन (अभिनेता)

स्वच्छ भारत अभियान का असर

इस अभियान के शुरू होने के बाद स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरूकता आयी है| देश के कई बड़े शहर Cleanest City का दर्जा प्राप्त कर चुके हैं, रेल्वे स्टेशन, बस अड्डों पर भी अब सफ़ाई दिखने लगी है| जगह जगह कचरा एकत्रित करने के लिए डब्बे लगाए गये हैं ताकि लोग सार्वजनिक स्थानों को गंदा ना करें|

उपसंहार

भारत सरकार द्वारा चलाई जाने वाली यह स्वच्छ भारत अभियान मुहिम कारगर सिद्ध हुई है| सरकार द्वारा जो कुछ कदम उठाये गये वह बहुत ही सराहनीय हैं|

अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ये अभियान शुरू नहीं करते तो हमारे सपनों का भारत हम कैसे देख पाते, मोदी जी ने इस अभियान में स्वयं सफाई कर लोगों को यह जता दिया की कोई काम छोटा या बुरा नहीं होता अगर हम उस काम को दिल से करना चाहें तो। 

इस अभियान के शुरू होने के बाद देश में जगह जगह कई परिवर्तन देखने को मिले, सूखे और गीले कचरे का वर्गीकरण यह एक बड़ा परिवर्तन रहा है| मोदी जी ने यह काम शुरू कर दिया है अब हम सभी नागरिकों की ये जिम्मेदारी है किअपने देश को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिये इस आंदोलन में बढ़ चढ़कर अपना योगदान दें|

निष्कर्ष

स्वच्छ भारत अभियान एक अत्यंत महत्वपूर्ण पहलू है जिसमें हम सभी को भाग लेना आवश्यक है। पूरे भारतवासी एकजुट होकर यदि स्वच्छता का निर्णय ले ले तो महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत का सपना साकार होने में कोई प्रतिरोध नहीं रहेगा। अतः हम सभी को स्वच्छ भारत अभियान का एक हिस्सा बनना चाहिए तथा अपने आसपास की जगहों पर स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। 

हम आशा करते हैं हमारा स्वच्छ भारत अभियान का निबंध Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi आपको पसंद आया होगा  तथा आने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में इससे आपको मदद मिलेगी। स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के बारे में आप हमें  कमेंट में बताएं। तथा जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों से भी शेयर करें।

Leave a Comment