महात्मा गांधी निबंध (2022) – जीवन परिचय – जन्म से मृत्यु तक संपूर्ण जानकारी | Mahatma Gandhi Essay in Hindi

महात्मा गांधी जी पर निबंध (जीवन परिचय) – जैसा कि विद्यार्थियों को महामारी के दौरान ऑनलाइन पढ़ाई करनी पड़ रही है। ऐसे में कोई भी शिक्षक अपने विद्यार्थियों को अपनी बातें ठीक तरह से नहीं कह पाता और विद्यार्थियों को Online Study Material का सहारा लेना पड़ता है। 

हमारे इस वेबसाइट पर हमने विद्यार्थियों की समस्या को हल करने के लिए उनसे उनके कक्षा से जुड़े कुछ हिंदी निबंध प्रस्तुत किए हैं। जिससे उन्हें इसे अपने शब्दों में परिवर्तित करने तथा समझने में आसानी होगी। निबंध से जुड़े प्रश्न आप के पाठ्यक्रम की परीक्षाओं में अत्यंत महत्वपूर्ण प्रश्नों की श्रेणी में आते हैं। 
यहां हम आपको बताएंगे कि यदि निबंध 250 शब्दों में हो या 500 शब्दों में हो तो आपको कौन-कौन सी महत्वपूर्ण टॉपिक पर लिखना है। आज के अपने इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि महात्मा गांधी जी के बारे में निबंध (Mahatma Gandhi Essay in Hindi) कैसे लिखें। महात्मा गांधी जी से जुड़ी कुछ बातें। 

महात्मा गांधी जी पर निबंध 250 शब्दों में (Mahatma Gandhi Essay in Hindi 250 Words)

महात्मा गांधी राष्ट्रपिता के रूप में जाने जाते हैं। इनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर नामक स्थान पर हुआ था। महात्मा गांधी के पिता का नाम करमचंद गांधी था तथा उनकी माता का नाम पुतलीबाई। महात्मा गांधी के पिता की 4 पत्नियां थी जिनमें पुतलीबाई करमचंद गांधी की आखिरी पत्नी थी। महात्मा गांधी का नाम मोहनदास करमचंद गांधी था और यह अपने पिता की चौथी संतान थे। 
भारतवर्ष को आजाद करने में महात्मा गांधी ने अमूल्य योगदान दिया है। ब्रिटिश शासक के विरुद्ध महात्मा गांधी का मुख्य हथियार अहिंसा रहा है। महात्मागांधी बिना किसी हथियार के ब्रिटिश शासकों को नाकों चने चबा महात्मा गांधी की अहिंसा नीति से ही प्रभावित होकर इन्हें राष्ट्रपिता के नाम से संबोधित किया गया। 
महात्मा गांधी ने भारत को आजाद कराने के लिए कई आंदोलन चलाए थे जिनमें प्रमुख हैं – नमक सत्याग्रह, चंपारण सत्याग्रह, भारत छोड़ो आंदोलन, असहयोग आंदोलन नहीं बात करें महात्मा गांधी के परिवार की तो महात्मा गांधी की मां एक धार्मिक गृहणी थी। वाह सामान्यता घर के कामों में तथा मंदिर के कामों में व्यस्त रहती थी। 
नियमित रूप से अपना समय पूजा पाठ में व्यतीत करती तथा परोपकार भरा जीवन जीती थी। महात्मा गांधी की छवि वैष्णव धर्म से प्रभावित है इसलिए महात्मा गांधी का सिद्धांत अहिंसा एवं विश्व में शास्वतता को मानना है। आजादी की लड़ाई में भी इनका प्रमुख हथियार अहिंसा का सिद्धांत ही रहा है तथा महात्मा गांधी अहिंसक ,शाकाहारी व आत्म शुद्धि के लिए भी विख्यात है। 30 जनवरी 1948 में नाथूराम गोडसे द्वारा महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई। 

ये भी पढ़ें :-

महात्मा गांधी पर जी निबंध 500 शब्दों में (Mahatma Gandhi Essay 500 words)

यदि विद्यार्थियों से 500 शब्दों में निबंध लिखने से संबंधित प्रश्न आए तब उन्हें अपने निबंध में कुछ महत्वपूर्ण हेडिंग बनाकर लिखनी चाहिए जिससे उन्हें अधिक अंक मिलने की संभावनाएं रहेंगी। इसके लिए आप निम्न बिंदुओं को देखें। 

प्रस्तावना –महात्मा गांधी एक अहिंसक व्यक्ति थे। वह अहिंसा में विश्वास रखते थे। महात्मा गांधी पर उनकी माता जी का काफी प्रभाव पड़ा था। महात्मा गांधी की माता एक धार्मिक महिला थी तथा अपना ज्यादा से ज्यादा समय पूजा पाठ हो दूसरों की सेवा करने में व्यतीत करती थी। इनके माता-पिता वैष्णव धर्म के अनुयाई थे तथा महात्मा गांधी पर भी वैष्णव धर्म के कुछ सिद्धांत जैसे अहिंसात्मक स्वभाव दूसरों की सेवा जैसे भाव उत्पन्न हुए थे। 

महात्मा गांधी जी (राष्ट्रपिता) का जन्म तथा उनकी प्रारंभिक शिक्षा (Birth and Education of Bapu Gandhi in Hindi)

महात्मा गांधी का जन्म गुजरात जिले के पोरबंदर नामक स्थान पर 2 अक्टूबर सन 1869 को हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा अपने निवास स्थान से शुरू हुई। महात्मा गांधी के पिता करमचंद गांधी थे तथा माता पुतलीबाई थी। महात्मा गांधी अपने पिता के अंतिम संतान थे। इन्हें अपने घर में बचपन से ही अच्छे आचरण सिखाए गए। वही महात्मा गांधी विद्यार्थी के रूप में एक आवश्यक विद्यार्थी थे। इन्होंने कभी कोई पुरस्कार नहीं जीता था। जहां अकेले रहना पसंद करते थे तथा सच्चाई और बलिदान के प्रतीक राम, हरिश्चंद्र, प्रहलाद इत्यादि कहानियों को पढ़ते तथा उनके सजीव नायक को अपना आदर्श बना लेते थे। जब गांधी जी मात्र 13 वर्ष के बालक थे इसी समय उनका विवाह पोरबंदर के एक व्यापारी की पुत्री जिसका नाम कस्तूरबा था उनसे कर दिया गया। 

युवा गांधी (Mahatma Gandhi) का राष्ट्रीय आजादी की लड़ाई में प्रवेश 

महात्मा गांधी एक औसत विद्यार्थी थे 18 सो 87 में उन्होंने किसी तरह मुंबई यूनिवर्सिटी से मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की। तथा आगे की पढ़ाई के लिए शामल दास कॉलेज में प्रवेश लिया। महात्मा गांधी एक डॉक्टर बनना चाहते थे परंतु वह वैष्णव परिवार में रहते थे जिसमें उन्हें चीर फाड़ की इजाजत नहीं दी जा सकती थी। 
 उन्हें बताया गया कि आपको ऊंचा पद प्राप्त करने के लिए बैरिस्टर बनाना पड़ेगा। महात्मा गांधी बैरिस्टर की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड निकल पड़े। में महात्मा गांधी लंदन पहुंच गए और इधर टेंपल में दाखिला लिया। दक्षिण अफ्रीका में भारतीय जनता के लिए एक अपमानजनक पंजीकरण जारी किया गया। इसके विरोध में महात्मा गांधी ने दंड भुगतने की शपथ ली और इस प्रकार एक सत्याग्रह का जन्म हो गया। 
गांधी जी के नेतृत्व में कई भारतीय लोगों ने संघर्ष किया तथा स्वतंत्रता के लिए बलि चढ़ गए। महात्मा गांधी 1914 में भारत लौट आए और भारत में उनका भव्य स्वागत किया गया तथा लोगों ने उन्हें महात्मा पुकारना शुरू कर दिया। और भारत में महात्मा गांधी ने अंग्रेजो के खिलाफ जंग छेड़ दी। तथा हिंसा को अपना हथियार बनाया और अंग्रेजों को लोहे के चने चबवा दिए। तथा 15 अगस्त 1947 को गांधीजी के ही प्रयासों ने भारत को आजाद करा दिया। 
ये भी पढ़ें :-

महात्मा गांधी जी की दुखद मृत्यु (Death of Mahatma Gandhi)

मोहनदास करमचंद गांधी की हत्या बिडला भवन में की गई थी। महात्मा गांधी एक धार्मिक अहिंसक व्यक्ति थे वह रोज शाम को बिरला भवन में प्रार्थना के लिए जाया करते थे। 30 जनवरी 1948 का दिन भारतीय इतिहास में एक अमूल्य निधि खो देने का अभिशाप लेकर आया था। महात्मा गांधी संध्या कालीन प्रार्थना के लिए जा रहे थे इसी दौरान नाथूराम गोडसे नामक व्यक्ति ने पहले उनके पैर छुए उनका सम्मान किया और फिर सामने से उन पर गोलियां बरसा दी। इस प्रकार राष्ट्र का महान पिता मारा गया। 

महात्मा गांधी पर 10 वाक्य (10 Lines on Mahatma Gandhi in Hindi)

1. महात्मा गांधी को भारत के राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है। महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के दांत खट्टे करती है तथा भारत से उन्हें निकाल फेका। 
2. महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को पोरबंदर नामक स्थान पर गुजरात जिले में हुआ था। 
3. महात्मा गांधी की माता का नाम पुतलीबाई तथा पिता का नाम करमचंद गांधी था. महात्मा गांधी का बचपन का नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। राष्ट्र के प्रति समर्पित होने के बाद इन्हें राष्ट्रपिता तथा महात्मा की उपाधि से नवाजा गया। 
4. गांधी जी का आजादी के प्राप्त करने के विरुद्ध मुख्य हथियार अहिंसा वादी सिद्धांत था। गांधी जी को या सिद्धांत जैन धर्म से मिला उनके माता पिता जैन धर्म के अनुयाई थे। 
5. महात्मा गांधी ने भारत को आजाद करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। तथा उनके अथक प्रयासों ने हीं हमें आजादी दिलाई। 
6. महात्मा गांधी ने कई सारे आंदोलन अंग्रेजों के विरुद्ध चलाएं जिसमें से प्रमुख है नमक सत्याग्रह , भारत छोड़ो आंदोलन, असहयोग आंदोलन
7. देश के लोगों ने भी आजादी की लड़ाई में महात्मा गांधी का पूरा सहयोग किया। महात्मा गांधी हमेशा भारत के लोगों के साथ बिना मतभेद के रहते थे तथा उन्हें आत्मनिर्भर बनने पर बनने की सलाह देते थे। 
8. महात्मा गांधी के अथक प्रयासों से ही हमें आजादी मिली तथा भारतवर्ष में स्वतंत्रता दिवस का राष्ट्रीय पर्व मनाया जाने लगा। इसके उपरांत जब भारत में भारत का संविधान लागू हुआ तब हम गणतंत्र दिवस (Republic Day) का राष्ट्रीय पर्व मनाते हैं। 
9. महात्मा गांधी के इस अमूल्य योगदान को हमारा राष्ट्र कभी नहीं भूलेगा। महात्मा गांधी की याद में ही हम उनके जन्मदिवस 2 अक्टूबर को स्वच्छ भारत के रूप में तथा गांधी जयंती के रूप में भी बनाते हैं। यह एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाता है तथा इस दिन राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाता है। 
10. 2 अक्टूबर के दिन को भी बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। जिस प्रकार हम होली बसंत ऋतु के आगमन पर बसंतोत्सव इत्यादि का त्यौहार मनाते हैं उसी तरह 2 अक्टूबर का राष्ट्रीय पर्व भी धूमधाम से भारत में मनाया जाता है। 

निष्कर्ष

प्रस्तुत निबंध महात्मा गांधी के जीवन पर संदर्भित है। यह एक विशेष टॉपिक है जो पाठ्यक्रम से जुड़ी है तथा प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। विद्यार्थियों को ऐसे ही निबंधों का अध्ययन करना चाहिए तथा मुख्य बातों को अपने निबंधों में बिंदु बनाकर लिखना चाहिए। हम आशा करते हैं यह निबंध आपके लिए उपयोगी रहा होगा। 
         Read More 

Leave a Comment